न्यूटन और चार्ल्स डार्विन की कब्र के पास दफनाए गए स्टीफन

0
133

लंदन। ब्रिटेन के भौतिकीविद और ब्रह्मांड वैज्ञानिक स्टीफन हॉकिंग का शनिवार को अंतिम संस्कार कैंब्रिज यूनिवर्सिटी कॉलेज के नजदीक एक चर्च में किया गया। हॉकिंग के सम्मान में चर्च में 76 बार घंटी बजाई गई। वहां उनके परिवार के सदस्य, दोस्तों और सहकर्मियों सहित लगभग 500 लोग मौजूद थे। यह कॉलेज हॉकिंग का 50 से अधिक वर्षों तक शैक्षणिक घर रहा है। हॉकिंग के ताबूत को गोनविले से कैअस कॉलेज तक छह पोर्टरों द्वारा ले जाया गया। ये सभी लोग पारंपरिक वेषभूषा में थे। हॉकिंग ने 14 मार्च को 76 वर्ष की उम्र में अपने कैंब्रिज स्थित घर में आखिरी सांस ली थी।

हॉकिंग के बेटे लुसी, रॉबर्ट और टिम हॉकिंग ने कहा कि उन्होंने कैंब्रिज में अंतिम संस्कार करने का फैसला इसलिए किया क्योंकि उनके पिता को इस शहर से बेहद लगाव था। हमारे पिता का जीवन और काम कई लोगों के लिए प्रेरणादायी थे। इनमें धार्मिक और गैर धार्मिक दोनों ही तरह के लोग शामिल थे। स्टीफन हॉकिंग को एक अन्य ब्रिटिश वैज्ञानिक आईजेक न्यूटन और चार्ल्स डार्विन की कब्र के पास दफनाया गया। अंतिम संस्कार केे बाद कैंब्रिज यूनिवर्सिटी के ट्रिनिटी कॉलेज में एक निजी रिसेप्शन भी दिया गया।

आपको बता दें कि, हॉकिंग का जन्म इंग्लैंड के ऑक्सफोर्ड में आठ जनवरी, 1942 को हुआ। ठीक इसी दिन महान खगोलविद गैलिलियो गैलीली की 330वीं पुण्यतिथि थी। हॉकिंग को स्नायु संबंधी बीमारी (एम्योट्रॉपिक लेटरल स्लेरोसिसस) थी, जिसमें व्यक्ति कुछ ही वर्ष जीवित रह पाता है। उन्हें यह बीमारी 21 वर्ष की आयु में हुई। जुझारू हॉकिंग अपनी बीमारी का पता लगने के बाद कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय में पढ़ने चले गये और अल्बर्ट आइंस्टिन के बाद वह दुनिया के सबसे महान भौतिकीविद बने।

Source:-https://www.sanjeevnitoday.com/world/stephen-buried-next-to-newton-and-charles-darwins-grave/20180401/140351

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here