जनता को सरकारी योजनाओं का लाभ एक छत के नीचे देने के लिए खोले जाएंगे ‘अंतोदय सेवा केन्द्र’- मुख्यमंत्री।

0
115

हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने आज कहा कि समाज के अंतिम व्यक्ति को सरकार की योजनाओं का लाभ देने के लिए मध्य अप्रैल से ‘अंतोदय सेवा केन्द्र’ खोले जाएंगे जहां पर 300 से ज्यादा सरकारी योजनाओं का लाभ एक छत के नीचे मिलेगा। समाज का ऐसा व्यक्ति जो ज्यादा पढ़ा लिखा नही है , वह उस अंतोदय सेवा केन्द्र में जाकर देखेगा कि उसे किस योजना के तहत लाभ मिल सकता है। वहीं पर योजना देखकर वह आवेदन भी दे सकेगा।

मुख्यमंत्री आज गुरुग्राम में हरियाणा लोक प्रशासन संस्थान (हिपा) में नागरिक केन्द्रित प्रशासन तथा सुशासन पर आयोजित एक दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम में बोल रहे थे। उन्होंने इस मौके पर हिपा के कर्मचारियों के लिए लगभग 32 करोड़ रूपये से बनने वाले बहुमंजलीय कर्मचारी आवास परियोजना का भी शिलान्यास किया।
प्रशिक्षण कार्यक्रम में उपस्थित भारतीय प्रशासनिक सेवा तथा हरियाणा सिविल सेवा के अधिकारियों को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि अप्रैल माह में सरकार से नागरिक(गर्वमेंट टू सिटीजन) के तहत सरल पोर्टल के माध्यम से दी जा रही 281 सेवाओं में वृद्धि करके 387 सेवाएं ऑनलाइन उपलब्ध होंगी। इससे लोगों को घर बैठे ही सरकारी सेवाओं का लाभ मिलेगा। उन्होंने कहा कि देश भले ही 1947 में आजाद हो गया था परंतु जो व्यक्ति पढ़ा-लिखा नही है और जागरूक नही है उसकी जिंदगी गुलामी जैसी रही। श्री मनोहर लाल ने कहा कि अधिकारी कत्र्तव्यों को ही अपना अधिकार समझ बैठते हैं और कोई सेवा उपलब्ध करवाना, जो हमारा कत्र्तव्य है, आम जनता को उपलब्ध करवाते समय यह मान बैठते हैं कि हम उस पर अहसान कर रहे हैं। ऐसी भावना नही होनी चाहिए। साथ ही मुख्यमंत्री ने कहा कि हरियाणा की जनता को कैसे सुखी कर सकते हैं, इसके बारे में सभी अधिकारीगण सोचें। इस दिशा में हर किसी को पर्यत्न करना चाहिए। उन्होंने अधिकारियों को सुशासन का पाठ पढ़ाते हुए कहा कि गुड गर्वनेंस वह है जिसमें जनता को सरकार के सामने याचक बनकर ना खड़ा रहना पड़े। उन्होंने कहा कि हमें ट्रस्टी की भांति पात्र व्यक्ति तक वह लाभ पहुंचाना है जो उसे मिलना चाहिए।
श्री मनोहर लाल ने कहा कि आज तकनीक का युग है और क्यों ना ऐसी व्यवस्था की जाए कि व्यक्ति को कार्यालय में एक बार आने पर ही उसका काम हो जाए। उन्होंने बताया कि वर्तमान सरकार बनने के बाद बहुत सारी सेवाओं को आईटी से जोड़ा गया है और जनता को इसका लाभ भी मिला है। उन्होंने यह भी बताया कि प्रदेश में खंड स्तर पर आम लोगों के जीवन में परिवर्तन  लाकर उनका जीवन बेहतर बनाने के लिए 47 खंड अथवा ब्लॉक सरकार के वरिष्ठ आईएएस अधिकारियों ने गोद लिए हैं। इसमें 10-11 पैरामीटर हैं जिन पर मूल्यांकन होगा। उन्होंने कहा कि हर अधिकारी अपने ब्लॉक का स्वयं मूल्यांकन करेंगे और सरकार की विभिन्न विभागों के माध्यम से लागू की जा रही योजनाओं का लाभ उस ब्लॉक के लोगों को पहुंचाएंगे। इसमें जो अधिकारी अच्छा काम करेगा, उसको पुरस्कृत भी किया जाएगा। उन्होंने अध्यापकों की स्थानांतरण नीति का उल्लेख करते हुए कहा कि सिस्टम को ठीक करने के लिए कुछ रिस्क भी लेने पड़ते हैं, जो हमने लिए। हम चाहते हैं कि जनता सुखी हो।
उन्होंने चुटकी लेते हुए कहा कि हम प्रदेश में दिल्ली सरकार जैसा माहौल नही बनाना चाहते। हम चाहते हैं कि हम राजनीतिज्ञ तथा अधिकारी मिलकर एक परिवार के रूप में काम करते हुए प्रदेश की जनता को राहत पहुंचाने की दिशा में काम करें।
– हिपा को मिला सेवोत्तम प्रमाण पत्र
गुरुग्राम स्थित हिपा हरियाणा सरकार की पहली इकाई तथा देश में पहला प्रशिक्षण संस्थान बन गया है जिसे भारतीय मानक ब्यूरो द्वारा ‘सेवोत्तम प्रमाण पत्र’ दिया गया है। मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने इसके लिए मुख्य सचिव श्री डी एस ढेसी तथा हिपा के अधिकारियों को बधाई दी। उन्होंने कहा कि हिपा अब अन्य विभागों के अधिकारियों को भी प्रशिक्षण देगा ताकि वे विभाग अपनी सेवाओंं में गुणात्मक सुधार लाकर वे भी सेवोत्तम प्रमाण पत्र हासिल कर सकें।
इससे पहले हरियाणा सरकार के मुख्य सचिव दीपेन्द्र सिंह ढेसी ने कहा कि भारतीय मानक ब्यूरो द्वारा उत्तम सेवा के लिए हिपा को यह प्रमाण पत्र प्रदान किया गया है। उन्होंने प्रधानमंत्री द्वारा हर महीने की बुधवार को सभी प्रदेशों के मुख्य सचिवों के साथ की जाने वाली समीक्षा का उल्लेख करते हुए कहा कि ‘प्रगति’ नामक इस कार्यक्रम में बड़ी परियोजनाओं तथा राष्ट्रीय कार्यक्रमों के क्रियान्वयन की समीक्षा स्वयं प्रधानमंत्री करते हैं। बीते बुधवार को प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना योजना या प्रधानमंत्री गर्भावस्था सहायता योजना की समीक्षा करते हुए प्रधानमंत्री ने पूछा था कि जिसके लिए योजना लागू की जा रही है उसके जीवन में क्या बदलाव आया है। अत: हम सभी को सरकारी योजनाएं इस ढंग से क्रियान्वित करनी चाहिए कि पंक्ति में खड़े आखिरी व्यक्ति को उनका लाभ मिले। साथ ही उन्होंने कहा कि सरकार ने ई-रजिस्ट्रेशन, सरल पोर्टल , ऑनलाइन सेवाएं आदि कई ई-आधारित सेवाएं शुरू की हैं जिसकी भावना यही है कि आम जनता को सेवा सरल तरीके से प्रदान की जाएं। मुख्य सचिव ने चिंतन शिविर का भी जिक्र किया और कहा कि हमें ‘टीम हरियाणा’ की स्पीरिट को आगे बढ़ाते हुए इस प्रकार काम करना है कि हम जनता को सर्वोत्तम सेवा दे सकें। उन्होंने कहा कि हमें जनता को अत्यंत प्रभावशाली तथा जनता हितैषी तरीके से सेवाएं देनी हैं।
भारतीय मानक ब्यूरो की महानिदेशक सुरीना राजन ने कहा कि हरियाणा काडर की अधिकारी होने के नाते हिपा को सेवोत्तम प्रमाण पत्र प्रदान करते हुए उन्हे गर्व हो रहा है। उन्होंने कहा कि ब्यूरो अपने 33 कार्यालयों के माध्यम से देश में लगभग 19 हज़ार वस्तुओ व सेवाओं को प्रमाणित करता है। वर्तमान में आईटी सैक्टर पर ज्यादा ध्यान दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि यह प्रमाण पत्र 3 वर्ष के लिए मान्य होता है और हर साल इसकी समीक्षा की जाती है। श्रीमति राजन ने कहा कि हरियाणा में शिक्षा, स्वास्थ्य , पुलिस तथा राजस्व विभागों में सेवाओं की गुणवत्ता मे सुधार करके यह प्रमाण पत्र हासिल करने की दिशा में काम किया जाना चाहिए। इससे राज्य सरकार के सुशासन प्रदान करने के उद्द्ेश्य को हासिल करने में मदद मिलेगी। उन्होंने आशा जताई कि अन्य क्षेत्रों की तरह हरियाणा सेवा में उत्तम रहेगा और देश में पहले नंबर पर आएगा। हिपा के महानिदेशक जी प्रसन्ना कुमार ने बताया कि किस प्रकार से पिछले एक साल से हिपा में प्रशिक्षण की गुणवत्ता और बेहतर बनाने तथा उसे वास्तविक रूप देने के लिए प्रयास किए गए। उन्होंने बताया कि हिपा का सिटीजन चार्टर बनाया गया, सर्विस क्वालिटी मैनुअल तथा गतिविधियों की एसओपी तैयार की गई हैं।
इस अवसर पर गुरुग्राम के विधायक उमेश अग्रवाल, मेयर मधु आजाद, मुख्य सचिव डी एस ढेसी, भारतीय मानक ब्यूरो की महानिदेशक सुरीना राजन, हिपा के महानिदेशक जी प्रसन्ना कुमार, जीएमडीए के सीईओ वी उमाशंकर, जिला भाजपा अध्यक्ष भूपेन्द्र चौहान, गुरुग्राम मंडल के आयुक्त डा. डी सुरेश, फरीदाबाद मंडल की आयुक्त डा. जी अनुपमा, पुलिस आयुक्त संदीप खिरवार, उपायुक्त विनय प्रताप सिंह भी उपस्थित थे।
Source:-http://www.bharatsarthi.com/

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here