यूं ही नहीं कहते डॉक्टर को भगवान, अपने पैसों से दिया मरीज को नया जीवन

0
93
  • जागरण संवाददाता, गुरुग्राम: जिला नागरिक अस्पताल के डॉक्टर लापरवाही को लेकर आए दिन चर्चा…
जागरण संवाददाता, गुरुग्राम: जिला नागरिक अस्पताल के डॉक्टर लापरवाही को लेकर आए दिन चर्चा में बने रहते हैं, लेकिन यहां एक ऐसे डॉक्टर भी हैं जो मरीज के जीवन की अहमियत समझते हुए अपनी जेब से पैसा खर्च कर नया जीवन देने का काम करते हैं। गुरुग्राम के जिला अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड में कार्यरत डॉ. योगेंद्र ¨सह ने पैसे से ज्यादा अंजान मरीज के जीवन को तवज्जो दी। उनका कहना है कि पैसा तो बहुत आ जाएगा। लेकिन मरीज को एक दिन बाद ठीक नहीं किया जा सकता था।
फरुखनगर के गांव खेड़ा झांझडौला निवासी रामानंद को 28 जनवरी को जिला नागरिक अस्पताल की इमरजेंसी वार्ड में शाम चार बजे लाया गया। जब रामानंद के शरीर का दाहिना हिस्सा काम नहीं कर रहा था। डॉ. योगेंद्र ¨सह ने मरीज के सिर का सीटी स्कैन कराया तो पाया कि कई जगह खून जमा है, जिसके चलते रामानंद लकवाग्रस्त हो गए।
डॉक्टर ने मरीज के बेटे संदीप को टेनेटेपल्स टीका लगवाने को कहा। बाजार में इस टीके का मूल्य 50 हजार के करीब है। उस समय संदीप के पास इतने पैसे नहीं थे कि टीका खरीद सके, लेकिन डॉक्टर ने मरीज के जीवन की अहमियत समझते हुए 20 हजार रुपये देकर मरीज के लिए टीका मंगवाकर मरीज को दिया, जिसके कुछ दिन बाद मरीज स्वयं चलकर घर गया।
अगर किसी व्यक्ति को इस तरह होता है तो उसे तीन से चार घंटे के अंदर टेनेटेपल्स टीका देकर ठीक किया जा सकता है। मैं जानता था कि इस मरीज को यह टीका देने से ठीक हो जाएगा और जब तक कहीं से पैसा आएगा तब तक देर हो जाएगी। इसलिए मैंने एटीएम से पैसा निकाल देना सही समझा। समय पर टीका मिलने के कारण आज रामानंद सही से चल और बोल पा रहे हैं। अगर एक घंटे के अंदर मरीज को यह टीका दे दिया जाए तो 90 प्रतिशत, और 2 घंटे बाद 80 व 6 घंटे बाद 40 प्रतिशत असर होने के चांस होते हैं। किसी व्यक्ति को हार्टअटैक व लकवा होने के बाद समय पर इलाज महत्व रखता है।
– डॉ. योगेंद्र ¨सह।
डॉक्टर भगवान का रूप होते हैं ऐसा सुना था, लेकिन अब स्वयं देखा। अभी तक सरकारी अस्पताल में डॉक्टर काम नहीं कर रहे हैं यही सुनते थे लेकिन कुछ डॉक्टर है जो काम करना चाहते हैं और मरीजों को नया जीवन देते हैं। ऐसे डॉक्टरों के कारण ही लोग कहते है कि डॉक्टर भगवान होते है।
– रामानंद, मरीज।
By Jagran
Source:-https://googleweblight.com/i?u=https://m.jagran.com/haryana/gurgaon-health-17493414.html&hl=en-IN&tg=177&tk=8469336496389728184

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here